What are the global ques for the share markets today | भारतीय बाजारों के लिए कैसा रहेगा आज का दिन, देखिए क्या होगी आज कमाई की रणनीति

नई दिल्ली: गुरुवार को शानदार तेजी के साथ बंद हुए भारतीय शेयर बाजारों (indian share markets) के लिए आज विदेशी संकेत मिले जुले हैं. SGX निफ्टी 40 अंकों की गिरावट के साथ 11400 के ऊपर कारोबार कर रहा है. लेकिन Dow Futures, Nasdaq Futures में अच्छी तेजी दिख रही है, Dow Futures में 150 अंकों से ज्यादा तेजी के साथ कारोबार हो रहा है, जबकि Nasdaq Futures भी 70 अंकों की बढ़त बनाए हुए है.

कैसे रहे विदेशी बाजार?
गुरुवार को अमेरिकी बाजार एक बार फिर बिकवाली की चपेट में आ गए. Dow Jones, 406 अंकों की गिरावट के साथ बंद हुआ. S&P500 में भी 60 अंकों गिरावट दर्ज हुई. IT शेयरों में आई तेज गिरावट के चलते Nasdaq एक बार फिर 222 अंकों की भारी गिरावट के साथ बंद हुआ.

 

बाकी एशियाई बाजारों की बात करें तो जापान का निक्केई हल्की बढ़त पर खुला है, हॉन्ग कॉन्ग का Hang Seng हल्की बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है. चीन शंघाई कंपोजिट लाल निशान में खुला है. यूरोपीय बाजारों में गुरुवार को हल्की गिरावट रही. फ्रांस का CAC 40 0.38%, जर्मनी का DAX 0.21% और लंदन का FTSE 100 0.16% परसेंट गिरकर बंद हुआ

क्या रही अंतरराष्ट्रीय हलचल?
दुनिया भर के निवेशकों में महामारी को लेकर अब संशय बना हुआ है. USFDA का कहना है कि कोरोना की वैक्सीन को लेकर अब गुणवत्ता के पैमाने को और बढ़ाया जाएगा, यानि वैक्सीन को क्लियरेंस आसानी से नहीं मिलेगा. हालांकि AstraZeneca ने अब भी दावा किया है कि उसकी वैक्सीन इस साल के अंत तक तैयार हो जाएगी. 

दुनिया भर में अब 2.8 करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित हैं. नए मामलों में पश्चिमी यूरोप ने अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है और ये एक नया ग्लोबल हॉट स्पॉट बनकर उबर रहा है. दुनिया भर में कोरोना से अबतक 9 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इधर Singapore Airlines ने 4000 से ज्यादा लोगों को नौकरी से निकाल दिया है. 

अमेरिकी बाजारों को सरकार के नए राहत पैकेज का इंतजार है, गुरुवार को सरकार की ओर से एक राहत पैकेज सीनेट में पेश किया गया, लेकिन सीनेट में ये पूरी तरह से खारिज हो गया. अमेरिका में साप्ताहिक बेरोजगारी के आंकड़े उम्मीद से थोड़ा ज्यादा आए हैं. बेरोजगारी के आंकड़े 8.84 लाख आए हैं, जबकि उम्मीद 8.5 लाख की थी. आज अमेरिकी रीटेल महंगाई दर के आंकड़ों पर नजर रहेगी. 

इधर यूरोपियन सेंट्रल बैंक (ECB) ने दरों, असेट खरीदारी में कोई बदलाव नहीं किया. ECB ने अनुमान जताया है कि इस साल पूरे यूरो जोन की GDP 8 परसेंट रहने का अनुमान है. हालांकि ये पहले के अनुमान से थोड़ा ही ज्यादा है. अमेरिकी भंडार बढ़ने से कच्चे तेल पर दबाव दिख रहा है. डॉलर के फिसलने से सोने में तेजी लौटी है

क्या हो आज की रणनीति?
हमारे सहयोगी चैनल ज़ी बिज़नेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के मुताबिक ‘भारतीय बाजारों के लिए विदेशी संकेत मिले जुले हैं. अमेरिकी बाजार कल उम्मीद से ज्यादा गिरे हैं, हालांकि उनके गिरने की संभावना पहले से थी. अभी डाओ फ्यूचर्स संभालने की कोशिश कर रहा है. अमेरिकी बाजारों में आई गिरावट उसके अपने ही कारणों से है. स्टिमुलस पैकेज को लेकर बात नहीं बन पा रही है, इसका असर है. बीते 7 ट्रेडिंग सेशन से ये साफ हो रहा है कि अमेरिकी बाजारों की दिशा साफ नहीं है’

अनिल सिंघवी के मुताबिक ‘घरेलू फ्रंट पर देखें तो चीन के साथ सीमा विवाद पर जो आधिकारिक खबरें आ रही हैं वो काफी अच्छी हैं. दोनों देश तनाव को नहीं बढ़ाने के पक्ष में हैं, इसे लेकर दोनों देशों की सोच अच्छी है. बाजार आज जितना गैप से खुले उतना अच्छा है, लोगों को खरीदारी का मौका मिलेगा’

अनिल सिंघवी के मुताबिक ‘निफ्टी के लिए आज सपोर्ट रेंज 11325-11375 है, जबकि 11500-11550 ऊपरी रेंज होगी. बैंक निफ्टी के लिए सपोर्ट रेंज 22075-22225 है, ऊपरी रेंज 22650-22850 है’
 
ये भी पढ़ें: अब आपके घर आएगा बैंक, सरकारी बैंकों ने शुरू की Door Step Banking, जानिए क्या होगा फायदा

LIVE TV



2020-09-11 07:45:56 , Zee News Hindi: Business News

(Visited 1 times, 1 visits today)